Thursday, September 5, 2013

Together...



3 comments:

  1. रिश्तों की जमापूंजी

    सहेजे रखिये, सोने के कंगन की तरह...

    और बधाई भी.

    ReplyDelete
  2. ऊँगलियों से उतार के इन छल्लों को समय को सौंप आयें....और गुम जाएँ एक-दूजे में हम सदा के लिये......

    ReplyDelete